Thursday 23 May 2024 9:09 AM
Aman Patrika
बिहार/ब्रेकिंग न्यूज

गांधी- लोहिया और जयप्रकाश की धरती है बिछा 0% यहां पीएम मोदी या अमित शाह की दाल नहीं गलेगी : पप्पू

गांधी- लोहिया और जयप्रकाश की धरती है बिछा 0% यहां पीएम मोदी या अमित शाह की दाल नहीं गलेगी : पप्पू

गांधी- लोहिया और जयप्रकाश की धरती है बिछा 0%

यहां पीएम मोदी या अमित शाह की दाल नहीं गलेगी : पप्पू

भागलपुर बिहार

बिहार गाँधी, लोहिया और जयप्रकाश की धरती है। यहाँ अमित शाह जैसे राजनीतिज्ञों की दाल गलने वाली नहीं है। देश को अमित शाह जैसा असफल गृहमंत्री अभी तक नहीं मिला था। ये उसी गुजरात से आते हैं, जहाँ देश के पहले गृहमंत्री लौह पुरूष सरदार पटेल पैदा हुए श्री. लेकिन गृहमंत्री के रूप में दोनों एक दूसरे के बिल्कुल विपरीत है।

उक्त बातें भागलपुर में विकास पुरुष के नाम से चर्चित नाथनगर सार्वजनिक पूजा समिति के अध्यक्ष सह नाथनगर विधानसभा के पूर्व प्रत्याशी राजद के कद्दावर युवा नेता पप्पू यादव ने कही। उन्होंने मणिपुर का ताजा उदाहरण देते हुए कहा कि वहाँ पर भीषण आग ऐसी लगी हुई है कि वहां गृह युद्ध की स्थिति बनी हुई है। लगभग डेढ़ पौने दो सौ लोग अबतक मारे जा चुके है। यहाँ डबल इंजन की सरकार है। उन्होंने कहा कि वे यह नहीं समझ पा रहे हैं कि वहाँ की सरकार आग लगाने में लगी है वा बुझाने में

पप्पू यादव ने कहा कि अमित शाह जी का वहाँ आजतक सिर्फ एक दौरा हुआ है। इस दौरान उन्होंने वहाँ पर शांति तक की अपील नहीं की थी बल्कि शांति स्थापित करने का आदेश दिया था। उस दौरे के बाद आज तक उनके मुँह से मणिपुर का नाम भी उच्चरित नहीं हुआ है। जबकि वह देश का सीमावर्ती इलाका है। पप्पू यादव ने कहा कि मणिपुर की आग पड़ोस के राज्यों को भी प्रभावित करने लगी है, लेकिन गृहमंत्री ने ऐसा रूख अपनाया हुआ है जैसे मणिपुर हमारे देश का अंग ही नहीं है। कुछ इसी तरह का हाल कश्मीर का भी ऐसा ही है। जब संविधान की धारा 370 को समाप्त करने का प्रस्ताव गृहमंत्री जी ने संसद में पेश किया था, उस समय के उनके भाषण का स्मरण किया जाए। तब ऐसा लग रहा था कि कश्मीर की सारी समस्याओं का समाधान धारा 370 में ही छीपा हुआ है इसको हटाइए और कश्मीर की धरती पर स्वर्ग उतर आयेगा। उन्होंने

इस पर सवाल उठाते हुए कहा कि आज वहां की क्या स्थिति है ! करनल, मेजर, डीएसपी स्तर के पदाधिकारी आतंकवादियों की गोली का शिकार हो रहे हैं। लेकिन प्रधानमंत्री सहित पूरी सरकार जी- 20 के सम्मेलन की सफलता का जश्न मनाने में इस तरह मग्न दिखाई दे रहे हैं, जैसे पुरे देश में अमन चैन कायम है। उन्होंने कहा कि ऐसी असंवेदनशील सरकार आजतक देश नहीं देखा है। पप्पू यादव ने कहा कि अमित शाह जी शनिवार को बिहार के सीमांचल में गरजेंगे। वह मुस्लिम बहुल इलाका है। प्रदेश में सांप्रदायिक आधार पर गोल बंदी को मजबूत करने और सांप्रदायिक मानसिकता के तुष्टिकरण के लिए अपने अंदाज में दहाड़ लगायेंगे। उन्होंने कहा कि वे अमित शाह जी को 2015 का चुनाव स्मरण कराना चाहते हैं, जब लालू प्रसाद यादव और नीतीश कुमार एक साथ मिल कर चुनाव लड़ रहे थे। उस समय भी अपने प्रधानमंत्री जी के साथ अमित शाह जी बिहार की गलियों का धूल फांका था। प्रधानमंत्री जी ने उस चुनाव में आरा की आम सभा में बिहार की बोली लगई थी। ह्य कितना दे दें ! सत्तर हजार करोड़, एक लाख करोड़ ! नहीं-नहीं सवा लाख करोड़ दे दिया ! उस सवा लाख करोड़ का हिसाब पूछिए तो उसका चौथाई भी अब तक नहीं मिला है। उस सबके बावजूद बिहार की जनता ने लालू-नीतीश की गोलबंदी दो तिहाई से ज्यादा बहुमत दिया था। इसलिए अमित शाह जी स्मरण रखें कि, हमारा बिहार गाँधी, लोहिया और जयप्रकाश की धरती है. यहाँ मोदी जी और अमित शाह जी की दाल नहीं गलने वाली है।

Share Now

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also
Close