Monday 20 May 2024 3:14 AM
Aman Patrika
बिहार/ब्रेकिंग न्यूज

मुंगेर (जमालपुर) के सवा सौ साल पुराने श्री महामाया शक्तिधाम में धूमधाम से मनाया जा रहा नवरात्र, माता रानी के 9 रूपों की स्थापित है प्रतिमा मुंगेर बिहार : देश के अलग हिस्सों के साथ जमालपुर श्री मारवाड़ी धर्मशाला स्थित श्री महामाया शक्तिधाम मंदिर प्रांगण में शारदीय नवरात्रि की जोरशोर से तैयारी चल रही है। इस प्राचीन मंदिर का निर्माण 1898 ईस्वी में कराया गया था। जबकि इसका जीर्णोद्वार 2022 में कराया गया था।इस मंदिर के प्रांगण में देवी की 9 रूपी प्रतिमा स्थापित है। साथ ही मां काली, श्रीराम दरबार ओर महादेव विराजमान है। मंदिर में प्रतिदिन सैकड़ों भक्त उपस्थित हो कर माता से मुरादे मांगते है। जब से मंदिर की स्थापना हुई है। माता के दरबार में अखंड ज्योत जलती रहती है।

मुंगेर (जमालपुर) के सवा सौ साल पुराने श्री महामाया शक्तिधाम में धूमधाम से मनाया जा रहा नवरात्र, माता रानी के 9 रूपों की स्थापित है प्रतिमा मुंगेर बिहार : देश के अलग हिस्सों के साथ जमालपुर श्री मारवाड़ी धर्मशाला स्थित श्री महामाया शक्तिधाम मंदिर प्रांगण में शारदीय नवरात्रि की जोरशोर से तैयारी चल रही है। इस प्राचीन मंदिर का निर्माण 1898 ईस्वी में कराया गया था। जबकि इसका जीर्णोद्वार 2022 में कराया गया था।इस मंदिर के प्रांगण में देवी की 9 रूपी प्रतिमा स्थापित है। साथ ही मां काली, श्रीराम दरबार ओर महादेव विराजमान है। मंदिर में प्रतिदिन सैकड़ों भक्त उपस्थित हो कर माता से मुरादे मांगते है। जब से मंदिर की स्थापना हुई है। माता के दरबार में अखंड ज्योत जलती रहती है।

मुंगेर (जमालपुर) बिहार
शैलेन्द्र कुमार गुप्ता  (AMAN PATRIKA)
मुंगेर के सवा सौ साल पुराने श्री महामाया शक्तिधाम में धूमधाम से मनाया जा रहा नवरात्र, माता रानी के 9 रूपों की स्थापित है प्रतिमा
मुंगेर बिहार : देश के अलग हिस्सों के साथ जमालपुर श्री मारवाड़ी धर्मशाला स्थित श्री महामाया शक्तिधाम मंदिर प्रांगण में शारदीय नवरात्रि की जोरशोर से तैयारी चल रही है। इस प्राचीन मंदिर का निर्माण 1898 ईस्वी में कराया गया था। जबकि इसका जीर्णोद्वार 2022 में कराया गया था।इस मंदिर के प्रांगण में देवी की 9 रूपी प्रतिमा स्थापित है। साथ ही मां काली, श्रीराम दरबार ओर महादेव विराजमान है। मंदिर में प्रतिदिन सैकड़ों भक्त उपस्थित हो कर माता से मुरादे मांगते है। जब से मंदिर की स्थापना हुई है। माता के दरबार में अखंड ज्योत जलती रहती है।

इस मंदिर में संगमरमर की नक्काशी से बनी चित्रकारी श्रद्धालुओं को अपनी ओर आकर्षित करती है। इस मंदिर के स्थापना में हर शहरवासियो को विशेष योगदान रहा। माता का यह मंदिर जमालपुर ही नही बल्कि आस पास के लोगो के आस्था का केंद्र है।

शारदीय नवरात्रि को देखते हुए आयोजन कमिटी ने बताया की नवमी ओर दशमी को माता का भव्य जागरण होगा। नवरात्रा में प्रतिदिन बंगाल से आए हुए कारीगरों के द्वारा माता का फूलों से भव्य श्रृंगार कराया जाएगा और पूरे धर्मशाला परिसर को भी सजाया जाएगा। किसी भी भक्त को सुबह शाम कोई तकलीफ ना हो। इसकी व्यवस्था पूरी कमिटी द्वारा की गई है।

Share Now

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also
Close